बिहार गोदाम निर्माण योजना | Bihar Godown Construction Scheme 2022, Registration, Benefits, Eligibilty

पूरे देश में ही फसलों के भंडारण के लिए सरकार द्वारा कई योजनाएं लाई गई हैं तथा योजनाओं के फलस्वरुप गोदामों का निर्माण किया जाता है। इसी तरह बिहार में भी भंडारण की समस्या को खत्म करने के लिए बिहार सरकार द्वारा ‘बिहार गोदाम निर्माण योजना’ की शुरुआत की गई। इस योजना के तहत फसलों को सुरक्षित रखने के लिए भंडारण तथा गोदामों का निर्माण किया जाएगा। गोदाम निर्माण योजना की शुरुआत 2021 में की गई है।

Contents hide

बिहार गोदाम निर्माण योजना का उद्देश्य | Bihar Godown Nirman Yojana 2022 : Objectives

भंडारण की समस्या होने की वजह से ज्यादातर किसानों की फसल सुरक्षित नहीं रहती थी अर्थात खराब हो जाती थी तो ऐसी दिक्कत से बचने के लिए किसानों को अपनी फसल कई बार कम दामों पर बेचने पढ़ती थी, जिसका सीधा असर उनकी आमदनी पर पड़ता था तथा फसल खराब होने से राज्य की अर्थव्यवस्था पर भी असर पड़ता था। इस दिक्कत को खत्म करने के लिए ही गोदाम निर्माण योजना की शुरुआत की गई ताकि किसानों की फसल को सुरक्षित रखा जा सके और सही दामों पर फसल बिक पाए।

बिहार गोदाम निर्माण योजना के लाभ | Bihar Godown Nirman Yojana 2022 : Benefits

  • इस योजना के अंतर्गत गोदामों का निर्माण किया जाएगा जहां पर किसान अपनी फसल को सुरक्षित रख पाएंगे।
  • इन गोदामों का निर्माण किसान खुद भी कर सकते हैं या फिर किसानों से जुड़ी हुई संस्थाएं भी निर्माण कार्य में अपना सहयोग दे सकती हैं।
  • भंडारण गृह बनाने के लिए राज्य सरकार की तरफ से सहायता राशि प्रदान की जाएगी।
  • भंडारण की समस्या खत्म हो जाने सेफसलें बर्बाद होने से बच जाएंगी और मार्केट में उनकी अच्छी कीमत भी मिल जाएगी।
  • फसलों की अच्छी कीमत मिलने से किसानों की आमदनी में वृद्धि होगी तथा राज्य की अर्थव्यवस्था में भी बढ़ोतरी होगी।

बिहार गोदाम निर्माण योजना के अंतर्गत सब्सिडी पर मिलने वाली दरें | Bihar Godown Nirman Yojana 2022 : Subsidy

  • एसएससी/ एसटी तथापिछड़े वर्गों से संबंधित लोगों को इंस्टॉलमेंट के रूप में सब्सिडी प्रदान की जाएगी।
  • पहली किस्त में 75% राशि अथवा25 लाख तक जो भी कम होगी, वह सरकार की तरफ से प्रदान कीजाएगी।
  • दूसरी किस्त में लैंटर्न कार्य के बाद 75% राशि क्योंकि50 लाख रुपए तकजो भी कमी हो, वह प्रदान की जाएगी।
  • तीसरी किस्त के रूप में छत कार्य पूरा होने के बाद 75% यानी75 लाख रुपएतक जो भी कम हो, की सहायता राशि प्रदान की जाएगी।
  • गोदाम का निर्माण कार्य पूरा होने के बाद ₹9 लाखतक जो भी कम होगी, वह सहायता व्यवस्था सरकार की तरफ से की जाएगी।

  बिहार गोदाम निर्माण योजना के अंतर्गत गोदाम की लागत एवं क्षमता | Bihar Godown Nirman Yojana 2022 : Cost and Capability

  • इस योजना के तहत यदि 200 टनवाले गोदाम के निर्माण में से 10% तक कमी पाई जाती है, तो ऐसी स्थिति में अनुदान की राशि का भुगतान कुछ परसेंट काट कर दिया जाता है।
  • अनुसूचित जाति जनजाति से संबंधित किसान को हर निर्धारित स्तर पूरा होने के बाद सहायता राशि जिला कृषि पदाधिकारी द्वारा प्रदान की जाएगी।
  • जिला कृषि अधिकारीपूरे हुए कार्यों की सारी वेरिफिकेशन करेंगे और उसके बाद ही अनुदान की राशि का भुगतान किया जाएगा।

बिहार गोदाम निर्माण योजना के अंतर्गत जारी किए गए दिशानिर्देश | Bihar Godown Nirman Yojana 2022 : Guidelines

  • इस योजना के तहतकेवल बिहार में रहने वाले लोग ही आवेदन कर पाएंगे।
  • गोदाम निर्माण के लिए जमीन की व्यवस्था आवेदक को खुद करनी होगी और इसके साथ-साथ जमाबंदी भी उपलब्ध करवाना अनिवार्य है।
  • स्वीकृति पत्र मिलने के बाद ही गोदाम निर्माण कार्य शुरू किया जाएगा।
  • निर्माण कार्य की सारी वेरिफिकेशन जिला कृषि पदाधिकारी द्वारा की जाएगी।
  • गोदाम पूरा होने के बाद इसकी सूचना कृषि अधिकारी को देना जरूरी होगा और सूचना देने के 15 दिन के भीतर इसकी जांच करना तथा सुनिश्चित करना जिला पदाधिकारी की जिम्मेवारी होगा।
  • किसान200 टन की क्षमता वाले गोदामों का निर्माण कर सकते हैं परंतु अनुदान की राशि पहले से ही सीमित होगी।
  • गोदाम की छत का निर्माण एस्बेस्टस से ही करवाया जाना अनिवार्य है। यदि छत का निर्माण आरसीसी के तहत होगा तो इस को मान्यता नहीं मिलेगी।
  • इस योजना के अनुसार 30% महिला कृषकों को प्राथमिकता प्रदान की जाएगी।
  • जिस जगह पर गोदाम का निर्माण किया जाएगा, वह जगह पक्की सड़क से जुड़ी हुई होनी चाहिए।
  • आवेदक को केवल एक बार ही लाभ पहुंचाया जाएगा और एक परिवार से एक व्यक्ति ही लाभ के लिए योग्य होगा।
  • यदि किसी व्यक्ति या उसके परिवार के किसी सदस्य ने पहले से ही इस योजना के अंतर्गत गोदाम निर्माण के लिए लाभ प्राप्त किया हो, ऐसे व्यक्ति को योजना के अंतर्गत आवेदन करने की अनुमति नहीं है।

बिहार गोदाम निर्माण योजना के अंतर्गत आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेज | Bihar Godown Nirman Yojana 2022 : Required Documents

  • आधार कार्ड
  • मूलनिवासी पहचान पत्र
  • राशन कार्ड
  • बैंक अकाउंट डिटेल्स
  • एड्रेस प्रूफ]
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर

बिहार गोदाम निर्माण योजना के तहत आवेदन प्रक्रिया | Bihar Godown Nirman Yojana 2022 : Registration Process

बिहार गोदाम निर्माण योजना के अंतर्गत ऑफलाइन तथा ऑनलाइन दोनों प्रकार की सुविधा उपलब्ध करवाई गई है। इन दोनों प्रक्रियाओं का वर्णन निम्नलिखित प्रकार है:

ऑफलाइन आवेदन प्रक्रिया | Offline Registration 2022

  • ऑफलाइन आवेदन करने के लिए आवेदक को प्रखंड कृषि कार्यालय याद जिला कृषि कार्यालय में जाकर अधिकारियों से आवेदन फॉर्म प्राप्त करना होगा।
  • आवेदन फॉर्म मिलने के बाद उसने मांगी गई सारी जानकारी सही तरीके से भरनी होगी तथा कुछ डॉक्यूमेंट की कॉपी साथ में अटैच कर ली होगी या फिर आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर फॉर्म को डाउनलोड करना होगा और उसका प्रिंट आउट निकलवाना होगा।
  • सारी जानकारी भरने तथा डॉक्यूमेंट की कॉपी अटैच करने के बाद आवेदन पत्र अधिकारियों के पास जमा करवाना होगा।

यह योजना फिलहाल के लिए बंद कर दी गई है, अगर इस योजना को सरकार आगे बढ़ाती है तो हम इस पोस्ट के माध्यम से आपको सूचित कर देंगे

Bihar Godown Nirman Yojana
Bihar Godown Nirman Yojana

 ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया | Online Registration

  • इस योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन करने के लिए आवेदक को सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • वेबसाइट पर जाने के बाद गोदाम निर्माण के लिए आवेदन पर क्लिक करना होगा।
  • क्लिक करने के बाद एक एप्लीकेशन फॉर्म खुल जाएगा, इस एप्लीकेशन फॉर्म में मांगी गई सारी जानकारी भरी होगी तथा सबमिट बटन पर क्लिक करके फॉर्म को सबमिट करना होगा।
  • इस तरह से आवेदन प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

बिहार गोदाम निर्माण योजना के अंतर्गत लाभार्थियों की चयन प्रक्रिया | Bihar Godown Nirman Yojana 2022 : Cost and Capability

  • चयन प्रक्रिया ‘पहले आओ पहले पाओ’ के आधार पर होगी।
  • इस योजना के अनुसार कृषकोंतथा महिला कृष्ण को पहल के आधार पर चयनित किया जाएगा और लाभ पहुंचाया जाएगा।
  • गोदाम निर्माण के लिए पंजीकृत बीज उत्पादक, खेती आधारित समूह एवं एग्रीगेटर्स को प्राथमिकता के आधार पर लाभ पहुंचाया जाएगा।
  • जिला अधिकारियों द्वारा इस योजना के तहत आवेदकों की सूची तैयार की जाती है और सूची के अनुसार ही लाभ पहुंचाया जाता है।7 दिनों के अंदर अंदर एप्लीकेशन फॉर्म की सारी जांच कर ली जाती है और जांच करने के अलावा घर पर जाकर भी वेरिफिकेशन की जाती है और यह सुनिश्चित किया जाता है कि आवेदक को व्हाट्सएप में गोदाम की आवश्यकता है या नहीं और उसी के आधार पर अप्रूवल मिलता है।
  • जिला पदाधिकारियों द्वारा वेरिफिकेशन तथा अप्रूवल देने के बाद एक अप्रूवल लेटर भी दिया जाता है और स्वीकृति पत्र मिलने के बाद गोदाम निर्माण कार्य शुरू कर दिया जाता है।
  • वेयरहाउस के डिजाइन एवं लगने वाली लागत की सारी जानकारी जिला पदाधिकारियों से डिस्कस करने के बाद ही राशि का भुगतान किया जाता है।

जो भी आवेदन गोदाम निर्माण कार्य शुरू करना चाहते हैं उन्हें इस योजना के अंतर्गत आवेदन करना होगा तभी वह सहायता राशि प्राप्त करने के योग्य हो पाएंगे। इसलिए हमारा सभी  बिहार के निवासियों से निवेदन है कि वह भी समय रहते इस योजना के तहत आवेदन कर दें क्योंकि इससे फसलों के भंडारण की समस्या खत्म हो जाएगी, आमदनी में वृद्धि होगी और राज्य को भी फायदा होगा।

Spread the love

Leave a Comment