बिहार मुख्यमंत्री सिविल सेवा प्रोत्साहन योजना | एससी/एसटी क्लियरिंग बीपीएससी/यूपीएससी के लिए 1 लाख

अत्यंत पिछड़े वर्ग से संबंधित नौजवानों को सिविल सेवा के लिए प्रोत्साहित करने के लिए ‘बिहार मुख्यमंत्री सिविल सेवा प्रोत्साहन योजना’ की शुरुआत की गई। इस योजना का पूरा नाम ‘मुख्यमंत्री अत्यंत पिछड़ा वर्ग सिविल सेवा प्रोत्साहन योजना’ है। इस योजना के तहत जो नौजवान सिविल सेवाओं में जाना चाहते हैं और परीक्षा में बैठने से पहले तैयारी के लिए कोचिंग लेना चाहते हैं, उन्हें इस योजना के तहत सिविल सेवा से संबंधित कोचिंग प्रदान की जाएगी। यह योजना उन नौजवानों के लिए शुरू की गई है जो कि अनुसूचित जाति जनजाति एवं पिछड़े वर्ग से संबंधित है और गरीबी के कारण कोचिंग प्राप्त नहीं कर पा रहे।

Contents hide

इस योजना के अंतर्गत जो विद्यार्थी सरकारी परीक्षा को पास करने के लायक हैं परंतु गरीबी  के कारण एवं वित्तीय समस्याओं के कारण परीक्षा में नहीं बैठ पा रहे तथा ट्रेनिंग प्राप्त नहीं कर पा रहे उन्हें इस योजना के तहत लाभ पहुंचाया जाएगा। यही योजना बिहार सरकार द्वारा शुरू की गई है। इस योजना को 16 मई, 2018 को बिहार के एससी/ एसटी कल्याण विभाग के संचालन में शुरू किया गया। इस योजना की घोषणा बिहार के मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार जी द्वारा दी गई और योजना का पहला लक्ष्य 5000 छात्रों को प्रोत्साहन राशि प्रदान करना था।

बिहार मुख्यमंत्री सिविल सेवा प्रोत्साहन योजना का उद्देश्य | Bihar Mukhyamantri Civil Seva Protsahan Yojana 2022 : Objectives

बिहार एक ऐसा राज्य है जहां पर बहुत ही गरीब परिवार रहते हैं और उनके बच्चे सिविल सेवाओं में जाना तो चाहते हैं परंतु उनकी फाइनेंसियल कंडीशन इतनी अच्छी नहीं है कि वह अपनी आवश्यकताएं पूरी कर पाए; तो ऐसे में बिहार सरकार ने इसकी जिम्मेदारी ली है। पिछड़े वर्ग से संबंधित परिवारों के बच्चे भी सिविल परीक्षाओं में बैठ पाए और सरकारी नौकरी प्राप्त कर पाएं, यही इस योजना का मुख्य उद्देश्य है।

बिहार मुख्यमंत्री सिविल सेवा प्रोत्साहन योजना का बजट

राज्य सरकार द्वारा यह योजना शुरू करते वक्त 32,54,70,000 से ज्यादा का बजट तय किया गया था। समय समय पर इस बजट को बढ़ाया गया था ताकि पिछड़े वर्ग से संबंधित हर एक विद्यार्थी की सहायता की जा सके।

बिहार मुख्यमंत्री सिविल सेवा प्रोत्साहन योजना के तहत मिलने वाले लाभ | Bihar Mukhyamantri Civil Seva Protsahan Yojana 2022 : Benefits

  • इस योजना के अंतर्गत सभी उम्मीदवार जिन्होंने यूपीएससी की प्राइमरी लेवल की परीक्षा पास कर ली है, उन्हें राज्य सरकार की तरफ से ₹1 लाख तक कीसहायता राशि प्रदान की जाएगी ताकि वह आगे की पढ़ाई पूरी कर सके।
  • जिन उम्मीदवारों ने बीपीएससी की प्राइमरी लेवल की परीक्षा पास कर ली है, उन्हें इस योजना के तहत ₹50000 तक की सहायता राशि सरकार की तरफ से प्रदान की जाएगी।
  • इस योजना के अंतर्गत पिछड़े वर्ग को जो प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाएगी, वह सिंगल किस्त में ही दी जाएगी।
  • मिलने वाली प्रोत्साहन राशि उम्मीदवार के बैंक अकाउंट में जमा करवाई जाएगी, जिससे समय की बचत होगी और उसी का सदुपयोग हो अपनी आगे की पढ़ाई पूरी करने के लिए कर पाएंगे।
  • ओबीसी/ EBC वर्ग से संबंधित जो विद्यार्थी हॉस्टल में रहते हैं, उन्हें पढ़ाई के लिए हजार रुपए हर 1 महीने प्रदान किए जाएंगे।
  • एसटी/ एससी कल्याण विभाग, ओबीसी/ एबीसीकल्याण विभाग द्वारा शुरू किए गए हॉस्टल में रहने वाले सभी विद्यार्थियों को बीपीएल दरों पर 15 किलो सब्सिडाइज गेहूं तथा चावल भी इसी योजना के अंतर्गत प्रदान किए जाएंगे।

बिहार मुख्यमंत्री सिविल सेवा प्रोत्साहन योजना के तहत जारी किए गए दिशानिर्देश | Bihar Mukhyamantri Civil Seva Protsahan Yojana 2022 : Guidelines

  • यह योजना केवल बिहार में रहने वाले मूलनिवासी विद्यार्थियों के लिए है, अन्य राज्य के विद्यार्थी इस योजना के तहत कोई भी लाभ प्राप्तनहीं कर सकते।
  • यह योजना केवल पिछड़े वर्ग से संबंधित उम्मीदवारों को सिविल सेवा के लिए प्रोत्साहित करने के लिए तैयार की गई है; जो विद्यार्थी जनरल कैटेगरी से संबंध रखते हैं उन्हें इस योजना के तहत आवेदन करने की अनुमति नहीं है।
  • उम्मीदवारों के पास अपना खुद का वैलिड बैंक अकाउंट होना अनिवार्य है क्योंकि इस योजना के तहत मिलने वाली राशि डायरेक्ट उन्हीं के बैंक अकाउंट में जमा करवाई जाएगी।
  • उम्मीदवार के पास बिहार का मूल निवासी होने का प्रमाण पत्र होना अति आवश्यक है।
  • विद्यार्थी के परिवार की मासिक आमदनी भी ज्यादा नहीं होनी चाहिए तथाइस योजना के अंतर्गत आय का प्रमाण पत्र जमा करवाना अनिवार्य है।

बिहार मुख्यमंत्री सिविल सेवा प्रोत्साहन योजना के तहत आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेज | Bihar Mukhyamantri Civil Seva Protsahan Yojana 2022 : Required Documents

  • विद्यार्थी का आधार कार्ड
  • बिहार के मूल निवासी होने का प्रमाण पत्र
  • यूपीएससी तथा बीपीएससी की प्राइमरी परीक्षा में इस्तेमाल होने वाला एडमिट कार्ड
  • यूपीएससी एवं बीपीएससी परीक्षा में पहले चरण के प्राइमरी लेवल में उत्तीर्ण होने का प्रूफ अर्थात मार्कशीट की फोटो कॉपी
  • विद्यार्थी का बैंक अकाउंट नंबर तथा आईएफएससी कोड
  • विद्यार्थी के परिवार की मासिक आमदनी का प्रमाण पत्र
  • विद्यार्थी का मोबाइल नंबर एवं ईमेल आईडी

बिहार मुख्यमंत्री सिविल सेवा प्रोत्साहन योजना के तहत आवेदन प्रक्रिया | Bihar Mukhyamantri Civil Seva Protsahan Yojana 2022 : Registration Process

बिहार मुख्यमंत्री सिविल सेवा योजना के तहत आवेदन करने के लिए ऑनलाइन सुविधा उपलब्ध करवाई गई है, जिसके तहत बड़ी ही आसानी से योजना के अंतर्गत आवेदन किया जा सकता है। इस योजना के अंतर्गत आवेदन करने के लिए निम्नलिखित कदम उठाने होंगे:

  • आवेदक को सबसे पहले बिहार मुख्यमंत्री सिविल सेवा प्रोत्साहन योजना के अंतर्गत जारी की गई ऑफिशियल वेबसाइट http://bcebcwelfare.bih.nic.in पर जाना होगा।
  • ऑफिशियल वेबसाइट पर जाने के बाद आवेदक को होमपेज दिखाई देगा।
  • इस होम पेज पर एप्लीकेशन फॉर्म दिखाई देगा, इस एप्लीकेशन फॉर्म में आवेदक को अपना नाम, आधार संख्या उम्र, क्वालिफिकेशन एवं अन्य डिटेल भरनी होगी।
  • सारी जानकारी ध्यानपूर्वक भरने के बाद आवश्यक दस्तावेज जैसे कि आधार कार्ड, मासिक आमदनी का प्रमाण पत्र, यूपीएससी एवं बीपीएससी परीक्षा का एडमिट कार्ड, प्राइमरी लेवल में उत्तीर्ण होने का आदि की सॉफ्ट कॉपी अपलोड करनी होंगी।
  • एप्लीकेशन फॉर्म भरने तथासारे डॉक्यूमेंट अपलोड करने के बाद सबमिट बटन पर क्लिक करना होगा।
  • सबमिट बटन पर क्लिक करते ही एप्लीकेशन फॉर्म जमा हो जाएगा।
  • इस प्रकार आवेदन प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

बिहार मुख्यमंत्री सिविल सेवा प्रोत्साहन योजना के तहत चयन प्रक्रिया | Bihar Mukhyamantri Civil Seva Protsahan Yojana 2022 : Selection Process

  • एक बार जब एप्लीकेशन फॉर्म जमा हो जाएगा, तो उसके पश्चात विभागीय अधिकारियों द्वारा विद्यार्थी की सारी डिटेल्स को वेरीफाई किया जाएगा।
  • वेरिफिकेशन के बाद एक लिस्ट जारी की जाएगी, यह लिस्टइस योजना की ऑफिशियल वेबसाइट पर जारी की जाएगी, उस सूची में भी विद्यार्थी का नाम होगा; उसी को इस योजना के अंतर्गत सहायता राशि प्रदान की जाएगी।
  • लिस्ट को देखने के लिए विद्यार्थियों को ऑफिशल वेबसाइट पर जाना होगा।
  • ऑफिशियल वेबसाइट पर जाने के बादसर्च बार के अंतर्गत ड्रॉपडाउन बॉक्स मेंन्यू से वित्तीय साल का चयन करना होगा। इसके पश्चात अपने जिले का चयन करना होगा।
  • जिले का चयन करने के बाद सर्च रिकॉर्ड को क्लिक करते ही सूची सामने आ जाएगी, जिसमें विद्यार्थी अपना नाम सर्च कर सकते हैं।

बिहार सरकार ने पिछड़े वर्ग से संबंधित विद्यार्थियों की पढ़ाई से संबंधित आवश्यकताओं को पूरी करने के लिए एवं उनकी शिक्षा वित्तीय परिस्थितियों के कारण पूरी ना हो पाए, इस को सुनिश्चित करने के लिए ही इस योजना की शुरुआत की थी जो कि निरंतर चल रही है। बिहार सरकार के प्रयासों की वजह से ही विद्यार्थी छात्रवृत्ति प्राप्त करके अपनी शिक्षा को पूरी करने के बाद सरकारी नौकरी प्राप्त करने का सुनहरी मौका प्राप्त कर पा रहे हैं।

बिहार सरकारी योजनाएंग्रेजुएशन कोर्ससरकारी योजनाएं
Spread the love

Leave a Comment