छत्तीसगढ़ गोधन न्याय योजना | ₹2 प्रति किलो गोबर बेचे | छत्तीसगढ़ गोधन न्याय योजना के तहत रजिस्ट्रेशन कैसे करें | Godhan Nyay Yojana Chhattisgarh 2022

छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा पशुपालकों के लिए छत्तीसगढ़ गोधन न्याय योजना की शुरुआत की गई। इस योजना की घोषणा राज्य के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी द्वारा 20 जुलाई, 2020 को की गई। यह योजना गाय पालने वाले पशुपालकों को लाभ पहुंचाने के लिए शुरू की गई थी। इस योजना राज पशुपालकों से गोबर खरीदेगी और उसको गोबर का उपयोग खाद बनाने के लिए किया जाएगा।

इस योजना के माध्यम से 21 जुलाई, 2020 को पहली बार गोबर खरीदने की शुरुआत की गई; जिसका सीधा लाभ पशुपालकों को मिला। इस योजना के पहले चरण में राज्य के 2240 गौशालाओं को जोड़ा गया और कुछ दिनों बाद 2800 गठन समितियों का निर्माण किया गया और दूसरे चरण को आरंभ कर दिया गया।

छत्तीसगढ़ गोधन न्याय योजना का उद्देश्य | Godhan Nyay Yojana Chhattisgarh 2022 : Objectives

इस योजना का उद्देश्य पशुपालकों को पशुपालन के लिए प्रोत्साहित करना तथा उनसे उचित दामों पर गोबर खरीद कर उनकी सहायता करना है ताकि पशुपालकों को आमदनी हो और वह पशु पालन में और ज्यादा कार्यकुशलता से काम कर पाए। इस योजना से पहले पशु पालकों द्वारा जो पशु पाले जाते थे, उनका गोबर कई बार ऐसे ही पड़ा रहता था, जिससे बहुत गंदगी फैलती थी। इस समस्या के निवारण के लिए ही इस योजना को शुरू किया गया, इससे ना केवल गंदगी की समस्या खत्म होगी बल्कि उस गोबर का इस्तेमाल खाद बनाने के लिए किया जाएगा जो कि किसानों  की फसल के लिए फायदेमंद होगा।

छत्तीसगढ़ गोधन न्याय योजना के लाभ | Godhan Nyay Yojana Chhattisgarh 2022 : Benefits

  • इस योजना के मद्देनजर पशुपालकों तथा किसानों से उनके पशुओं के गोबर को खरीदा जाएगा।
  • खरीदे जाने वाले गोबर का इस्तेमाल वर्मी कंपोस्ट खाद बनाने के लिए किया जाएगातथा इस खाद को उचित दामों पर किसानों को बेचा जाएगा जिसका फायदा फसलों को होगा।
  • इस योजना से किसानों तथा पशु पालने वालों दोनों को ही लाभ होगा और उनकी आमदनी में वृद्धि होगी।
  • किसान तथा पशु पालन करने वाले लोगों की आर्थिक स्थिति मजबूत होगी।
  • गोधन योजना के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले नागरिकों को रोजगार मिलेगा।
  • विशेष करके महिलाओं को इस योजना के माध्यम से काम दिया जाएगा।
  • इस योजना के कारण गांव में साफ सफाई भी बनी रहेगी।
  • इस योजना से ना केवल किसानों तथा पशुपालकों को लाभ होगा बल्कि छत्तीसगढ़ राज्य की अर्थव्यवस्था पर भी अच्छा प्रभाव पड़ेगा।
  • इस योजना के माध्यम से प्राप्त किए गएगोबर से वर्मी कंपोस्ट, फर्टिलाइजर तैयार किए जाएंगे, जो कि कम कीमत में किसानों को फसलों के लिए उपलब्ध कराए जाएंगे। इससे किसान, बागवानी एवं नगरिया प्रशासन विभाग आदि की फर्टिलाइजर की आवश्यकता को पूरा किया जा सकेगा।
  • किसानों से एवं पशुपालकों से ₹2 प्रति किलो के हिसाब से गोबर खरीदा जाएगा।
  • इस योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा एक कार्ड जारी किया जाएगा तथा गठन समिति द्वारा घर-घर जाकर गोबर इकट्ठा किया जाएगा।कार्ड में गोबर से जुड़ी सारी जानकारी हर रोज दर्ज की जाएगी और इसी के माध्यम से ही उन्हें गोबर का मूल्य दिया जाएगा।
  • वर्मी कंपोस्ट ₹10 प्रति किलो की दर से सब को बेचा जाएगा।

छत्तीसगढ़ गोधन न्याय योजना से जुड़े अन्य तथ्य | Godhan Nyay Yojana Chhattisgarh 2022 

  • इस योजना के दौरान बहुत सारे गांव तथा शहरों को जोड़ा गया।
  • यह योजना 2 चरणों में चलाई गई पहले चरण में 2240 गौशालाओं को जोड़ा गया और दूसरे चरण में 2800 गठन का निर्माण किया गया, इन दोनों चरणों के दौरान ज्यादा से ज्यादापशु पालकों से गोबर सरकार द्वारा खरीदा गया।
  • लगभग 600000 क्विंटल खाद का उत्पादन इस योजना के द्वारा खरीदे गए गोबर से किया जाएगा, जिससे कि ग्रामीण क्षेत्रों में औद्योगिक पार्क का निर्माण किया जाएगा।
  • औद्योगिक पार्कसे ₹2000 करोड़ की आमदनी होने की संभावना है।
  • अब तक इस योजना के माध्यम से 82,711 क्विंटल गोबर की खरीद की जा चुकी है तथा ₹1,6500,000 तक काभुगतान किया जा चुका है।
  • इस योजना के माध्यम से अब तक 12 वीं किस्त की राशि जो कि 3 करोड 80 लाख रुपए लाभार्थियों के खाते में ऑनलाइन माध्यम से ट्रांसफर की जा चुकी है।
  • इस योजना के निर्माण से छत्तीसगढ़ देश का ऐसा पहला राज्य बन गया है जो किपशुपालकों एवं किसानों से पशुओं का गोबर खरीद रहा है, जोकि अपने आप में एक बहुत बड़ी उपलब्धि है।
  • महिला स्वयं सहायता समूह भी वर्मी कंपोस्ट तैयार करनेका संचालन कर रहा है।
  • इस योजना के अंतर्गत चरणबद्ध तरीके से गौशालाओं के निर्माण के लिए 11,630 ग्राम पंचायत एवं 2000 गांव को सूचीबद्ध किया गया है।

छत्तीसगढ़ गोधन न्याय योजना से जुड़े अन्य दिशानिर्देश | CG Godhan Nyay Yojana 2022 : Guidelines 

  • यह योजना केवल छत्तीसगढ़ में रहने वाले पशुपालकों के लिए ही तैयार की गई है। अन्य राज्य से संबंधित लोग इस योजना से किसी भी प्रकार का फायदा नहीं उठा सकते।
  • इस योजना के तहत केवल जाए पशुपालकों को ही आवेदन करने की अनुमति है।
  • बड़े जिमीदार एवं व्यापारी इस योजना के लिए आवेदन नहीं कर सकते।
  • जो भी पशुपालक इस योजना के लिए आवेदन करना चाहता है, उसको अपने पशुओं से संबंधित जानकारी दी उपलब्ध करानी होगी।

छत्तीसगढ़ गोधन न्याय योजना के लिए आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेज | CG Godhan Nyay Yojana 2022 : Required Documents

  • मूलनिवासी पहचान पत्र
  • आधार कार्ड
  • राशन कार्ड
  • पशुओं से संबंधित जान
  • जानकारी मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

छत्तीसगढ़ गोधन न्याय योजना के लिए आवेदन प्रक्रिया | Godhan Nyay Yojana Chhattisgarh 2022 : Registration Process

जो भी इच्छुक लाभार्थी इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं, उनके लिए ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया शुरू की जाएगी, परंतु अभी कोई भी ऑफिशियल वेबसाइट इसके लिए जारी नहीं किया गया है; इसलिए पशुपालकों को अभी थोड़ा इंतजार करना होगा। जबकि पहले ग्राम पंचायतों के माध्यम से पशुपालकों को इस योजना के तहत फायदा पहुंचाया जा रहा था परंतु अब इसको ऑनलाइन करने की तैयारी चल रही है, इसीलिए सभी को यह हिदायत है कि उन्हें थोड़ा इंतजार करना पड़ेगा क्योंकि अब सारे लोग ऑनलाइन ही आवेदन कर पाएंगे।

छत्तीसगढ़ गोधन न्याय योजना से संबंधित अलग से कोई पोर्टल अभी तैयार नहीं किया गया है इसलिए जो भी अपडेट सरकार द्वारा इस योजना के अंतर्गत दी जाएगी वह सारी अपडेट  ऑफिशियल वेबसाइट  पर दी जाएगी, इसलिए पशुपालकों को यह निवेदन है कि वह समय-समय पर इस वेबसाइट पर जाकर जानकारी प्राप्त करते रहें।

छत्तीसगढ़ गोधन न्याय योजना से पहले पशुपालक उन गायों को खुला छोड़ देते थे, जिनकी उन्हें आवश्यकता नहीं होती थी; परंतु अब जब सरकार द्वारा गोबर के लिए उन्हें दाम मिलने लगे तो लोगों ने ऐसा करना छोड़ दिया। भूमिहीन किसान जो केवल गायों को पालकर उनका दूध बेचकर ही अपनी आमदनी जुटा पाते हैं, वह इस योजना के तहत अपनी आमदनी में बढ़ोतरी कर पाएंगे।

छत्तीसगढ़ सरकारी योजनाएंग्रेजुएशन कोर्ससरकारी योजनाएं
Spread the love

Leave a Comment