गुजरात किसान दुर्घटना बीमा योजना 2022 | Gujarat Kisan Durghatna Bima Yojana 2022, Registration, Benefits, Eligibility

गुजरात किसान दुर्घटना बीमा योजना के अंतर्गत यदि किसी किसान की खेत में काम करते समय कोई दुर्घटना हो जाती है और उसमें किसान की मौत हो जाती है, तो उनके परिजनों को 5 लाख रुपए सरकार की तरफ से मुआवजा दिया जाएगा। इसके अलावा अगर दुर्घटना में किसान 60% से अधिक दिव्यांग हो जाता है, तो उसके परिवार को 2.5 लाख रुपए दिए जाएंगे। इस योजना का लाभ बटाईदार और पट्टे पर खेतों को लेकर काम करने वाले मजदूरों को भी दिया। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा इस योजना का नाम मुख्यमंत्री किसान दुर्घटना कल्याण कर दिया गया है। इस योजना के तहत 18 से 70 वर्ष तक के किसान और उसके परिवार को इसका लाभ दिया जाएगा। इस योजना के तहत सिम आधार को की मृत्यु सांप काटने, या अन्य जीव जंतु के काटने, आग लगने, बाढ़, नदी तालाब या कुएं में गिरने, बिजली गिरने आदि में दुर्घटना, डूबने, डकैती, मकान गिरने अथवा किसी प्रकार के अप्रकृतिक दुर्घटना होने के कारण बीमा मान्य होगा। इस बीमा योजना का लाभ लेने के लिए दुर्घटना होने के 45 दिन के अंदर आवेदन करना होगा।

गुजरात किसान दुर्घटना बीमा योजना का उद्देश्य | Gujarat Kisan Durghatna Bima Yojana 2022 : Objectives

किसान दुर्घटना बीमा योजना का मुख्य उद्देश्य किसानों और उनके परिवारों की दुर्घटना की स्थिति में आर्थिक सहायता किया जाना है। जिससे हादसे के बाद उन्हें किसी से मदद के लिए मोहताज नहीं होना पड़ेगा। वह एक सम्मानपूर्ण जीवन व्यतीत कर सकेंगे। अक्सर ऐसा देखा गया है कि यदि किसी किसान की दुर्घटना में मौत हो जाती है या वह विकलांग हो जाता है। ऐसी स्थिति में किसान के परिवार की आर्थिक स्थिति बहुत खराब हो जाती है। इस तरह की स्थिति में कई बार किसानों का परिवार पर रास्ते पर आ जाता है। लेकिन इस बीमा योजना के द्वारा उन सभी किसानों को हादसे के बाद भी अपना जीवन-यापन सम्मानजनक तरीके से कर सकेंगे।

 गुजरात किसान दुर्घटना बीमा योजना के लाभ | Gujarat Kisan Durghatna Bima Yojana 2022 : Benefits

  • किसान दुर्घटना बीमा योजना के लाभार्थी सभी तरह के छोटे किसान हो सकेंगे। इसमें वह किसान भी शामिल होंगे जिनके पास अपनी भूमि नहीं होगी।
  • गुजरात किसान दुर्घटना बीमा योजना के तहत 2 करोड़ 38 लाख किसानों को लाभ दिया जाएगा।
  • इस योजना को शुरू करने का सरकार का एकमात्र उद्देश्य यह है, कि किसी दुर्घटना के कारण यदि किसान को कुछ हो जाता है, तो उसकी आर्थिक स्थिति को सुधारने हेतु धनराशि उपलब्ध कराई जाएगी।
  • यदि किसी किसान की कार्य के दौरान मृत्यु हो जाती है या विकलांग हो जाते हैं तो उन्हें 5 लाख रुपए तक की मुआवजा राशि प्रदान की जाएगी।

 गुजरात किसान दुर्घटना बीमा योजना की विशेषताएं | Gujarat Kisan Durghatna Bima Yojana 2022 : Features

  • किसान दुर्घटना बीमा का लाभ किसानों के साथ साथ अब बटाईदार को भी दिया जाएगा। जिससे योजना का दायरा बढ़ेगा।
  • इस योजना के अंतर्गत बीमा की अधिकतम राशि 5 लाख रुपए होगी।
  • इस योजना का लाभ आंधी तूफान या भूस्खलन में मरने वाले किसानों को दिया जाएगा।
  • किसान की मृत्यु के बाद उसके परिवार वाले खेत का स्थानांतरण अपने नाम पर नहीं करवाते हैं। इस स्थिति में किसान के परिजन पत्नी, बेटा, बेटी इस योजना में लाभार्थी होंगे।
  • यदि किसान की पत्नी मर चुकी है और बेटा भी नहीं है तो इस स्थिति में किसान की बेटी को ( चाहे उसकी शादी हो चुकी हो तब भी) बीमा की राशि दी जाएगी।
  • दुर्घटना होने के 45 दिन के अंदर किसान के परिजनों को दावा पेश करना होगा। तभी उन्हें इस योजना के तहत लाभ प्राप्त हो सकेगा। यदि किसी कारणवश 45 दिन से ज्यादा हो जाते हैं। जिला अधिकारी के अनुमोदन के बाद 30 दिन केअंदर इस योजना का लाभ प्राप्त किया जा सकेगा। परंतु 75 दिन के बाद बीमा का कोई लाभ किसान के परिजनों को नहीं दिया जाएगा।
  • इस योजना के अंतर्गत दावे की 1 महीने के अंदर किसानों की बीमा राशि उसके बैंक खाते में ट्रांसफर हो जाएगी।
  • राज्य सरकार द्वारा किसान दुर्घटना बीमा योजना का सहयोग कलेक्टरों की देखरेख में दिया जाएगा।
  • बीमा धारक की मृत्यु यदि आत्महत्या या आपराधिक कार्य करते हुए होती है तो उन्हें बीमा की राशि नहीं दी जाएगी।

गुजरात किसान दुर्घटना बीमा योजना के लिए पात्रता | Gujarat Kisan Durghatna Bima Yojana 2022 : Eligibility

गुजरात राज्य सरकार द्वारा आकस्मिक मृत्यु और अस्थाई विकलांगता के मामले में मुआवजा राशि को दोगुना कर दिया गया है। इस फैसले से राज्य में कुल 6.25 करोड़ आबादी में से लगभग 2.49 करोड़ किसानों और उनके परिवार के सदस्यों को इस योजना के अंतर्गत लाभ दिया जाएगा। मुआवजे के लिए पात्र बनने की प्राथमिक आवश्यकता यह है, कि लाभार्थी का किसान होना अनिवार्य होगा और उसे नीचे दी गई शर्तों का पालन करना होगा:-

  • किसान को यह साबित करने के लिए कि वह जमीन का मालिक है उसके पास भूमि रिकॉर्ड होना अनिवार्य होगा।
  • इसी योजना के अंतर्गत किसान की मृत्यु या विकलांगता के कारण दुर्घटना होनी चाहिए। इसके लिए किसान के परिवार वालों के पास पोस्टमार्टम रिपोर्ट होना अनिवार्य होगा।
  • इस योजना के अंतर्गत वही किसान पात्र बन सकेंगे, जिनकी आयु 18 से 70 वर्ष होगी।
  • इस योजना के तहत प्राकृतिक और आत्मघाती मौत की दुर्घटनाओं को बाहर रखा गया है। ऐसे मामलों में किसान किसी भी मुआवजे का हकदार नहीं होगा।
  • दुर्घटना, मौतों और स्थाई विकलांगता के मामले के कारण क्षेत्र पर काम करते समय इलेक्ट्रॉक्यूशन, जानवरों के काटने, मशीनों से जुड़ी दुर्घटनाएं,, सड़क दुर्घटनाएं और मार्केट यार्ड की यात्रा करना भी इस आकस्मिक समूह बीमा योजना के अंतर्गत आते हैं।

 गुजरात किसान दुर्घटना बीमा योजना के लिए दस्तावेज | Gujarat Kisan Durghatna Bima Yojana 2022 : Required Documents

  • खतौनी की नकल
  • मृत्यु की दशा में खतौनी में दर्ज विरासत की नकल
  • पोस्टमार्टम रिपोर्ट
  • आधार कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • दिव्यांग होने की दशा में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सक का प्रमाण पत्र
  • किसान या उसके वारिस का खाता नंबर

 गुजरात किसान दुर्घटना बीमा योजना के लिए आवेदन प्रक्रिया | Gujarat Kisan Durghatna Bima Yojana 2022 : Registration Process

  • किसान दुर्घटना बीमा योजना का लाभ लेने के लिए किसान या उसके परिजन को उपरोक्त वर्णित दस्तावेजों को दावा पत्र के साथ अटैच करके एसडीओ कार्यालय या जिलाधिकारी कार्यालय में हादसा होने के 45 दिन के अंदर जमा करवाना होगा।
  • किसान दुर्घटना बीमा योजना के लिए सरकार द्वारा ऑनलाइन पोर्टल जल्द ही विकसित किया जाएगा।
  • अभी किसानों को इन्हीं प्रक्रियाओं को अपनाकर किसान दुर्घटना बीमा का लाभ उठाना होगा।

गुजरात किसान दुर्घटना बीमा योजना का उद्देश्य किसानों या उनके परिवारों को आर्थिक सहायता दिया जाना है। यह आर्थिक सहायता किसानों को खेतों में काम करते समय दुर्घटना होने या मृत्यु हो जाने पर राज्य सरकार द्वारा दी जाएगी। इस सहायता से किसान के परिवार को आर्थिक तंगी से जूझना नहीं पड़ेगा। जिससे वह सम्मान पूर्वक अपना जीवन व्यतीत कर सकेंगे।

Spread the love

Leave a Comment