उत्तर प्रदेश संपत्ति पंजीकरण 2022 | UP Property Registration 2022, Registration, Benefits, Eligibility

उत्तर प्रदेश ऑनलाइन संपत्ति पंजीकरण करने की प्रक्रिया को राज्य सरकार द्वारा स्टाम्प एवं पंजीकरण विभाग पर उपलब्ध कर दिया गया है। स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन विभाग पोर्टल पर संपत्ति पंजीकरण के अंतर्गत पांच प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। इस सुविधा का लाभ केवल राज्य के लोग ही उठा सकेंगे। संपत्ति के पंजीकरण के लिए दस्तावेजों की तैयारी का समय उप-पंजीयक के कार्यालय में कानूनी रूप से दर्ज किया जाएगा। ज़मीन के लेन देन के समय संपत्ति रजिस्ट्री के लिए जो स्टाम्प इस्तेमाल किए जाएंगे, उनके लिए शुल्क का भुगतान करने की आवश्यकता होगी। उत्तर प्रदेश में संपत्ति के पंजीकरण और हस्तांतरण का प्रबंधन टिकट और पंजीकरण विभाग उत्तर प्रदेश द्वारा किया जाएगा। अब राज्य सरकार द्वारा ऑनलाइन संपत्ति रजिस्ट्री की व्यवस्था भी उपलब्ध करवाई गई है।

Contents hide

उत्तर प्रदेश संपत्ति पंजीकरण का उद्देश्य | UP Property Registration 2022 : Objectives

उत्तर प्रदेश संपत्ति पंजीकरण सुविधा के शुरू होने के कारण लोगों को बहुत सहायता प्राप्त हुई है पहले लोगो को अपनी प्रॉपर्टी का पंजीकरण करने के लिए सरकारी दफ्तरों के चक्कर काटने पड़ते थे और बहुत सी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा था । इन सभी समस्याओ को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा इस उत्तर प्रदेश ऑनलाइन संपत्ति पंजीकरण को शुरू किया गया है। इस योजना के अंतर्गत राज्य के नागरिको अब कही जाने की ज़रूरत नहीं होगी। अब वह घर बैठे इंटरनेट के माध्यम से की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर आसानी से ऑनलाइन पंजीकरण कर सकेंगे। इसके द्वारा अब लोगो के समय की भी बचत होगी। उत्तर प्रदेश  सरकार एवं नागरिकों के मध्य पारदर्शिता को बढ़ावा दीया जाना है।

उत्तर प्रदेश बेरोजगारी भत्ता रोजगार योजना 2022

उत्तर प्रदेश संपत्ति पंजीकरण के लाभ | UP Property Registration 2022 : Benefits

उत्तर प्रदेश में सम्पत्ति विवरण के ऑनलाइन हो जाने से राज्य के नागरिकों को निम्नलिखित लाभ प्राप्त हो सकेंगे:-

  • उत्तर प्रदेश में सम्पत्ति पंजीकरण ऑनलाइन होने से राज्य के नागरिकों की समय की बचत होगी।
  • इस योजना के द्वारा अब नागरिकों को पटवारी खाने (तहसील) के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे।
  • इस योजना के अंतर्गत राज्य में हो रही कालाबाजारी में भी कमी आएगी।
  • यदि राज्य में कोई नागरिक अब जमीन खरीदता हैं। तो वह रजिस्ट्री एवं अपॉइंटमेंट घर बैठे ही प्राप्त कर सकेंगे।
  • इस योजना के माध्यम से उत्तर प्रदेश राज्य के लोग अब घर बैठे ही अपनी सम्पत्ति का ब्यौरा ऑनलाइन देख सकेंगे।

उत्तर प्रदेश संपत्ति पंजीकरण की विशेषताएं | UP Property Registration 2022 : Features

  • उत्तर प्रदेश के सभी नागरिक जो अपनी सम्पति का ऑनलाइन पंजीकरण करना चाहते है, वह स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन विभाग के ऑनलाइन पोर्टल पर सरलता से कर सकेंगे ।
  • पंजीकरण करने के बाद नागरिक ऑनलाइन ही अपनी सम्पति का पूरा विवरण आसानी से देख सकेंगे।
  • उत्तर प्रदेश ऑनलाइन संपत्ति पंजीकरण के तहत पांच प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध की जाएंगी।
  •  इस योजना के द्वारा ऑनलाइन आवेदन की सुविधा प्रदान की जाएगी।
  •  इस योजना के माध्यम से औद्योयोगिकी सम्पति पंजीकरण हेतु निवेश मित्र वेबसाइट उपलब्ध कराई जाएगी ।
  • सम्पति पंजीकरण हेतु अप्वाइंटमेंट की सुविधा प्रदान की जाएगी।
  • फिर सम्पति को ऑनलाइन खोजने की सुविधा भी प्राप्त होगी।
  • सम्पति का सम्पूर्ण विवरण आवेदक द्वारा दिया जा सकेगा।
  • इस विभाग द्वारा प्रमुख्यतः दो अधिनियमो अधिनियम 1908 एवं भारतीय स्टाम्प अधिनियम 1899 के अन्तर्गत कार्य किया जाएगा।
  • उत्तर प्रदेश संपत्ति ऑनलाइन पंजीकरण होने से कालाबाज़ारी कम होगी और राज्य और नागरिको के बीच पारदर्शिता आएगी ।

उत्तर प्रदेश किसान कर्ज माफी राहत योजना 2022

उत्तर प्रदेश संपत्ति पंजीकरण शुल्क | UP Property Registry Rate 2022

यूपी सरकार द्वारा संपत्ति और अन्य लेनदेन के लिए नई स्टांप शुल्क दरों और पंजीकरण शुल्क को अधिसूचित किया गया था और उस प्रावधान को हटा दिया गया था। जिसमें लेनदेन पर अधिकतम शुल्क 20,000 रुपये था। अब, पंजीकरण शुल्क की गणना बिक्री प्रतिफल के 1% के रूप में की जाती है। इसका मतलब यह है कि अगर 50 लाख रुपये मूल्य की संपत्ति के लिए बिक्री विलेख पंजीकृत किया जाएगा, तो खरीदार को पंजीकरण शुल्क के रूप में 50,000 रुपये अलग करना होगा।

यूपी भारत के उन राज्यों में शामिल है जहाँ स्टाम्प शुल्क तुलनात्मक रूप से अधिक माना जाता है। यूपी में खरीदारों को लेनदेन शुल्क का 7% स्टांप ड्यूटी के रूप में देना होगा। खरीदार किसी भी राज्य में सर्कल दरों से नीचे की संपत्ति को पंजीकृत नहीं कर सकेंगे। यदि संपत्ति सरकार द्वारा निर्धारित सर्कल दरों के नीचे पंजीकृत की जाएगी, तो खरीदार को सर्कल दर की गणना करके निर्धारित मूल्य पर लागू राशि का भुगतान करना होगा।

 उत्तर प्रदेश संपत्ति पंजीकरण योजना में महिलाओं के लिए संपत्ति रजिस्ट्रेशन रेट | UP Property Registry Rate for Women 2022

कई राज्यों की तरह उत्तर प्रदेश में महिलाओं को संपत्ति पंजीकरण पर एक समान कम स्टांप शुल्क कम देना होगा। उत्तर प्रदेश में महिलाओं को इस शुल्क पर छूट दी जाएगी।  केवल एक निश्चित मूल्य वर्ग के अंतर्गत संपत्तियों की खरीद पर 7% स्टांप शुल्क के स्थान पर, जो कि पुरुष के मालिक होने पर लागू होता है, महिलाएं 10 लाख रुपये या उससे कम की संपत्ति के पंजीकरण पर 6% स्टांप शुल्क का भुगतान करना होगा। हालांकि, अगर यूपी में संपत्ति की कीमत 10 लाख रुपये से अधिक है, तो पुरुष और महिला दोनों समान स्टांप शुल्क का भुगतान करना होगा। उत्तर प्रदेश में महिलाओं को स्टांप शुल्क शुल्क में 1% की कमी की पेशकश की जाएगी, यह कटौती लेनदेन के कुल मूल्य में से केवल 10 लाख रुपये तक ही लागू होगी।

उत्तर प्रदेश नरेगा योजना 2022

उत्तर प्रदेश संपत्ति पंजीकरण योजना में पुरुषों के लिए संपत्ति रजिस्ट्रेशन रेट | UP Property Registry Rate for Men 2022

यदि संपत्ति का मालिक पुरूष है तो पंजीकृत कराई गई संपत्ति के कुल मूल्य का 7 प्रतिशत स्टांपड्यूटी और संपत्ति के कुल मूल्य का 1 प्रतिशत पंजीकरण के शुल्क के रूप में देना होगा। यदि संपत्ति के मालिक महिला और पुरूष संयुक्त रूप से होंगे, तो उन्हे संपत्ति के मूल्य का 6.5 प्रतिशत स्टांपड्यूटी और 1 प्रतिशत पंजीकरण फीस के रूप में देना होगा। अगर व्यक्ति की संपत्ति का मूल्य 50 लाख है तो व्यक्ति को 3.5 लाख रूपये स्टांपड्यूटी और 50,000 रूपये पंजीकरण शुल्क के रुप में देने हेंगे।

उत्तर प्रदेश संपत्ति पंजीकरण योजना में पावर ऑफ अटॉर्नी का योगदान | UP Propery Power of Attorney 2022

उत्तर प्रदेश में जिस प्रॉपर्टी की पावर ऑफ अटॉर्नी ब्लड रिलेशन के अलावा किसी दूसरे व्यक्ति के नाम की गई थी, उनकी दिक्कत बढ़ सकती है। स्टाम्प ऐक्ट के माध्यम से पावर ऑफ अटॉर्नी केवल ब्लड रिलेशन में ही की जा सकती है। इसके अलावा अब 100 रुपए में प्रॉपर्टी का रजिस्ट्री सर्टिफ़िकेट भी बनाया जाएगा। जिसे एड्रेस प्रूफ की तरह इस्‍तेमाल किया जा सकेगा। प्रदेश के जिन जिलों में जीपीए (जनरल पावर ऑफ अटॉर्नी) पिछले सालों में की गई थी। उनमें से जो बिना ब्लड रिलेशन वालों के नाम पर की गई थी। इनमें एक्ट का मिसयूज किया गया था। इस पूरे मामले की प्रदेश स्तर पर जांच की जाएगी। जांच रिपोर्ट आने के बाद आगे का फैसला लिया जाएगा।

उत्तर प्रदेश संपत्ति पंजीकरण के लिए आवश्यक दस्तावेज़ /पात्रता | UP Property Registration 2022 : Required Documents

  • इस योजना के अंतर्गत पंजीकरण करने के लिए आवेदक यूपी का स्थायी निवासी  होना चाहिए ।
  • पंजीकरण के लिए दस्तावेज़ की मूल और डुप्लिकेट कॉपी होनी अनिवार्य होगी ।
  • प्रत्येक खरीदार, विक्रेता और सभी गवाह की दो-दो पासपोर्ट साइज फोटो होनी चाहिए।
  • खरीददार, विक्रेता और सभी गवाहों के पहचान प्रमाण पत्र जैसे कि वोटर आईडी, पासपोर्ट आदि होना आवश्यक है।
  • निगमन के प्रमाण पत्र की प्रमाणित प्रतियां
  • संपत्ति रजिस्टर कार्ड जो यह सुनिश्चित करे कि संपत्ति सरकार की नहीं है
  • संपत्ति के निर्माण के वर्ष की नगरपालिका कर बिल की कॉपी
  • सभी पक्षों के पैन कार्ड की कॉपी
  • सभी पक्षों (खरीदार, विक्रेता और दो गवाह) के फोटो और हस्ताक्षर

उत्तर प्रदेश बुढ़ापा पेंशन योजना 2022

उत्तर प्रदेश संपत्ति पंजीकरण के लिए ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया | UP Property Registration 2022 : Registration Process

उत्तर प्रदेश के जो लोग संपत्ति ऑनलाइन पंजीकरण करना चाहते है, तो व्यक्ति को नीचे दिए गए तरीके को फॉलो करे ।

  • सबसे पहलेआवेदक को स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन विभाग उत्तर प्रदेश की ऑफिसियल वेबसाइट  पर जाना होगा।
  • ऑफिसियल वेबसाइट पर जाने के बाद आवेदक के सामने होम पेज खुल जायेगा |
  • इस होम पेज पर आवेदक को सम्पति पंजीकरण के नीचे आवेदन करे का ऑप्शन दिखाई देगा । इस ऑप्शन पर क्लिक करना होगा ।ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आवेदक के सामने कंप्यूटर स्क्रीन पर आगे का पेज खुल जायेगा |
  • इस पेज पर आवेदक को नवीन आवेदन कर क्लिक करना होगा। इसके बाद अगला पेज खुल जायेगा। इस पेज पर आवेदक को आवेदन फॉर्म दिखाई देगा ।
  • आवेदक को इस फार्म में पूछी गयी जानकारी जैसे जनपद ,तहसील , उपनिबंधक, पासवर्ड आदि भरना होगा ।
  • सभी जानकारी भरने के बाद आवेदक को प्रवेश करे पर क्लिक करना होगा। फिर आवेदक को लॉगिन करना होगा। लॉगिन करने के लिए आवेदक को आवेदन संख्या और पासवर्ड तथा कैप्चा कोड आदि भरना होगा ।
  • ये प्रक्रिया तीन चरणों में पूरी होगी, पहले स्टेम एवं रजिस्ट्रेशन विभाग की ऑफिसियल वेबसाइट पर पंजीकरण करना और दूसरे चरण में ऑनलाइन पंजीकरण करने के पश्चात अपने क्षेत्रीय ‘Sub Registrar Office (SRO)’ के कार्यालय में ऑनलाइन भरे हुए आवेदन फॉर्म के साथ उपस्थित होना होगा।
  • अब संपत्ति पंजीकरण के अंतिम चरण में ‘Sub Registrar Office (SRO)’ सभी दस्तावेजों का वेरिफिकेशन करके आवेदक को मूल संपत्ति का प्रमाण प्रदान किया जाएगा।

उत्तर प्रदेश संपत्ति पंजीकरण के तहत संपत्ति विवरण | UP Property Registration 2022 : Property Details

इस विकल्प के अंतर्गत आवेदक कहीं से भी कभी भी कुछ आसान से जानकारी प्रदान कर किसी भी संपत्ति को खोज सकेंगे।

  • सबसे पहले आवेदक को वेब होमपेज पर “सम्पत्ति विवरण (Property Search)” वाले भाग पर क्लिक  करना होगा।
  • इसके बाद, अपनी सुविधा अनुसार दिए गए विकल्पों में से एक विकल्प का चुनाव करना होगा।
  • अब मांगी गई सूचनाओं को जैसे- संपत्ति का पता, तहसील/निबंधन कार्यालय, मोहल्ला, गांव इत्यादि को भरना होगा।
  • इस तरह से आवेदक उत्तर प्रदेश संपत्ति पंजीकरण के तहत जमीन की रजिस्ट्री की जानकारी उत्तर प्रदेश, लेखपत्र का विवरण पंजीकरण, स्टाम्प शुल्क उत्तर प्रदेश और रजिस्ट्री ऑनलाइन चेक कर सकेंगे।

भाग्य लक्ष्मी योजना 2022

उत्तर प्रदेश संपत्ति पंजीकरण हेल्पलाइन नंबर | UP Property Registration 2022 : Helpline Number

यदिकिसी व्यक्ति को इस से संबंधित किसी भी प्रकार की जानकारी चाहिए होगी या उत्तर प्रदेश सम्पत्ति पंजीकरण से जुडी समस्या का समाधान के लिए और शिकायत दर्ज करने के लिए नीचे दिए गए हेल्पलाइन नंबर पर सम्पर्क कर सकेंगे:-

Helpline Number:-0532–2623667

उत्तर प्रदेश संपत्ति पंजीकरण के द्वारा ज़मीन से जुड़े हुए सभी लेनदेन करते वक्त ज़मीन की रजिस्ट्री की आवश्यकता होती है। रजिस्ट्री का मतलब होता है की ज़मीन को खरीदने वाले मालिक ने कानूनी तौर पर पूरे दस्तावेजों तथा सरकार के नियमों के अधीन ज़मीन को खरीदा गया है और इस संपत्ति पर अब उसका हक होगा। ज़मीन रजिस्ट्री होने से यह सुनिश्चित हो जाता है कि ज़मीन खरीदते या बेचते वक्त किसी भी प्रकार का नियम उल्लंघन नहीं किया गया है और कुछ भी गैरकानूनी नहीं किया गया है।

UP Sarkari YojanaGraduation CourseSarkari YojanaIndia Top ExamExcel Tutorial

 

Spread the love

Leave a Comment