12वीं के बाद आर्ट्स कोर्सेज | Art Student Course after 12th | Graduation Course for Art Students | Graduation Course for ART Student in Hindi

आर्ट स्ट्रीम, 12 वीं कक्षा के बाद सबसे अधिक चुने जाने वाले कोर्स में से एक है। यह न केवल आर्ट्स स्ट्रीम से संबंधित छात्रों द्वारा चुना जाता है, बल्कि कॉमर्स और साइंस स्ट्रीम के छात्रों द्वारा भी चुना जाता है। आर्ट स्ट्रीम के तहत पढ़ाए जाने वाले कुछ महत्वपूर्ण विषयों में इतिहास, भूगोल, समाजशास्त्र, अर्थशास्त्र, जन संचार, कानून, मनोविज्ञान, राजनीति विज्ञान, भाषा विज्ञान और भाषा अध्ययन (अंग्रेजी, हिंदी, संस्कृत, आदि) शामिल हैं। आर्ट स्ट्रीम के कोर्स करने का सबसे अच्छा फायदा यह है की इसमें ज्यादा फीस नहीं होती है इसलिए जिन छात्रों की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं होती और जो छात्र पढाई के साथ साथ जॉब भी करना पसंद करते हैं उनके लिए यह स्ट्रीम बहुत फायदेमंद होती है और इस स्ट्रीम में आसानी से एडमिशन भी मिल जाता है।

हर साल, लाखों छात्र कला वर्ग में अपनी उच्च माध्यमिक परीक्षा (कक्षा 12) पूरी करते हैं। और बोर्ड परीक्षा पूरी होने के बाद उनके मन में एक ही सवाल रहता है कि 12वीं आर्ट्स के बाद क्या करें? इस ब्लॉग में, हम 12वीं कला के बाद सबसे आशाजनक करियर विकल्पों के बारे में बताने जा रहे हैं। अगर आप इस सवाल का जवाब ढूंढ रहे हैं, तो हमारा यह लेख अंत तक पढ़ते रहें!

12वीं के बाद आर्ट्स कोर्सेज लिस्ट  | Art Course After 12th

इन सभी कोर्सेज की जानकारी एवं समय सीमा और अन्य संभावनाएं निम्लिखित प्रकार है:-

B.A. History in HindiB.ed Course in Hindi
B.A. Economics in HindiBA Graduation Course
BA + B.Ed Integrated Course in HindiHotel Management Course in Hindi
BA in PsychologyPolytechnic Course
BSW Course in HindiBMS Course in Hindi
BBA Course in HindiFashion Interior Design Course
B.Arch CourseDTL Course in Hindi
Bachelor of Fine ArtsDEd Course 2021
LLB Foundation Course in HindiMass Communication Course in Hindi

बी.एड | B.ed | B.ed Two year diploma

बैचलर ऑफ एजुकेशन या बीएड एक 2-वर्षीय स्नातक शिक्षण कार्यक्रम है, जो टीचिंग लाइन और अन्य संबंधित क्षेत्रों में करियर बनाने में सक्षम बनाता है। ये कोर्स भी बाहरवीं करने के बाद किया जा सकता है। इस कोर्स को आमतौर पर बैचलर ऑफ ट्रेनिंग या शिक्षा शास्त्री के रूप में भी जाना जाता है।

इस डिग्री अधिकतम समय सीमा 5 साल है। बीएड पाठ्यक्रम में समग्र शिक्षा, मनोविज्ञान, मार्गदर्शन और परामर्श, और अन्य जैसे विषय पढ़ाये जाते हैं। बाहरवीं के बाद B.ed में प्रवेश के लिए कई प्रवेश परीक्षाएं होती हैं जैसे IPU CET, BHU UET, DU B.ED, और अन्य; इनमें से किसी भी प्रवेश परीक्षा में पासिंग मार्कस प्राप्त करके इस कोर्स में दाखिला  है।

 

बैचलर ऑफ़ सोशल वर्क (BSW) | BSW Course After 12th

बैचलर ऑफ सोशल वर्क या बीएसडब्ल्यू एक पेशेवर डिग्री है जिसे स्नातक (यूजी) स्तर पर प्रस्तुत किया जाता है। इस कोर्स को पूरा करने के बाद एनजीओ में नौकरी के अवसर प्राप्त कर सकते हैं। उम्मीदवार पूर्णकालिक पाठ्यक्रम फुल टाइम कोर्सेज या फिर कॉरेस्पोंडेंस / डिस्टेंस लर्निंग कोर्स भी कर सकते हैं।

फाउंडेशन कोर्स, ऐच्छिक कोर्स और फील्डवर्क ये तीन प्रमुख भाग हैं, जिनमें विद्यार्थी कोर्स कर सकते हैं। इन तीनो भागों में से किसी भी भाग का चयन करके अपना कोर्स शुरू कर सकते हैं। बीएसडब्ल्यू कोर्स की अवधि आमतौर पर तीन साल होती है परन्तु उमीदवार छह  साल के भीतर फुल टाइम कोर्स भी कर सकते हैं। विद्यार्थी अपनी आवश्यकता के अनुसार बीएसडब्ल्यू पाठ्यक्रम अंग्रेजी या  हिंदी में कर सकते हैं।

बीएसडब्ल्यू पाठ्यक्रम में विषय जैसे सोशल वर्क का परिचय, भारत में सामाजिक समस्याएं, सामाजिक कार्य अनुसंधान और सांख्यिकी, सामाजिक कार्य प्रशासन और पसंद आदि पढ़ाये जाते हैं। जिन छात्र छात्राओं ने मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12 वीं कक्षा सामाजिक कार्य, समाजशास्त्र, मनोविज्ञान या किसी भी संबंधित क्षेत्र जैसे विषयों में उत्तीर्ण की हो। वे उम्मीदवार बीएसडब्ल्यू कोर्स कर सकते हैं।

 

फैशन इंटीरियर डिज़ाइन डिप्लोमा | Fashion Interior Design Course

इंटीरियर डिजाइनिंग भारत में तेजी से एक लोकप्रिय कैरियर विकल्प बन रहा है। इंटीरियर डिजाइनर वे लोग हैं जो आर्किटेक्ट्स के साथ निकटता में काम करते हैं। वे एक प्रतिष्ठान के लेआउट की योजना बनाने में मदद करते हैं, जो एक घर, कार्यालय या किसी अन्य वाणिज्यिक परिसर में इस तरह से हो सकता है।

इंटीरियर डिजाइनर अपने प्रतिष्ठानों के लेआउट, संरचना, रंग योजनाओं, असबाब और सजावट की योजना बनाने में फर्मों / घर के मालिकों की मदद करते हैं। एक इंटीरियर डिजाइनर / डेकोरेटर का मुख्य कार्य किसी भी प्रतिष्ठान को आकर्षक बनाना और उपयोगिता वस्तुओं की पेशकश करना है।

बाहरवीं के बाद इंटीरियर डिजाइन कोर्स किया जा सकता है। इंटीरियर डिजाइन कोर्स करने के बाद सबसे आम और लोकप्रिय कैरियर प्रोफाइल इंटीरियर डिजाइनर और इंटीरियर डेकोरेटर बनना होता है, जिसके लिए उम्मीदवार अप्लाई कर सकते हैं ।

 

बीए | BA | BA Graduation Degree | BA Graduation Course

BA का फुल फॉर्म बैचलर ऑफ आर्ट्स (ग्रेजुएशन कोर्स / Graduation Course) है। बीए एक अत्यंत लोकप्रिय स्नातक पाठ्यक्रम है जो छात्र अपनी कक्षा 12 वीं के बाद कर सकते हैं। बैचलर या आर्ट्स आमतौर पर तीन साल की अवधि का होता है अर्थात तीन सालों में कोर्स को पूरा किया जा सकता है।

बीए पाठ्यक्रम के भाग के रूप में छात्रों को कुछ वैकल्पिक विषयों के साथ पांच अनिवार्य विषयों का अध्ययन करने की आवश्यकता होती है और ये विषय उम्मीदवारों द्वारा ही चुने जाते हैं।

उम्मीदवार फुल टाइम या पार्ट टाइम किसी भी तरह से कोर्स को पूरा किया जा सकता है। डिजाइन, आतिथ्य, जनसंचार और शुद्ध मानविकी जैसे विभिन्न धाराओं के तहत कॉलेजों द्वारा बीए पाठ्यक्रम की पेशकश की जाती है और विद्यार्थी इन विषयों में भी अध्यन्न कर सकते हैं। जो उम्मीदवार किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 10 + 2 पास कर लेते हैं, उनको बीए में आसानी से दाखिला मिल जाता है।

 

मास कम्युनिकेशन कोर्स | Mass Communication Course

जनसंचार एक बड़ी संख्या में लोगों तक जानकारी पहुँचाने का एक साधन है। यह शब्द केवल पत्रकारिता तक सीमित नहीं है, बल्कि समाचार और रिपोर्टिंग, फिल्म निर्देशन और उत्पादन, इवेंट मैनेजमेंट, जनसंपर्क, विज्ञापन, कॉर्पोरेट संचार सहित कई अन्य मीडिया क्षेत्रों में अपनी शाखाओं का विस्तार करता है और इन्ही पाठ्यक्रमों का अध्यन्न मास्स कम्युनिकेशन में किया जाता है।

मास मीडिया और संचार का क्षेत्र आंशिक रूप से इंटरैक्टिव अवधारणा में विकसित हुआ है जो मानव जीवन के लगभग हर पहलू को छूता है और, अखबारों, टेलीविजन और इंटरनेट के माध्यम से हमारे जीवन में मीडिया के व्यापक प्रसार के साथ, जन संचार का क्षेत्र पहले की तरह लोकप्रियता हासिल कर रहा है।

यह पाठ्यक्रम उन उम्मीदवारों को कैरियर के कई अवसर प्रदान करता है, जो न केवल उच्च वेतन पाते हैं, बल्कि नौकरी की संतुष्टि और रचनात्मकता में भी रूचि रखते हैं। इंजीनियरिंग और मेडिकल की जटिल धाराओं के विपरीत, किसी को जन संचार के क्षेत्र में सफल होने के लिए “सेट फॉर्मूला” रखने की आवश्यकता नहीं है। हालांकि, एक संचार और मीडिया पेशेवर के रूप में इसे बड़ा बनाने के लिए सभी की जरूरत जुनून, ड्राइव और सही कौशल है। जनसंचार में करियर बनाने के लिए रूचि, जूनून होना अनिवार्य है।

 

जर्नलिज्म कोर्स (पत्रकारिता) | Journalism Course In Hindi

यह दुनिया में हर प्रासंगिक घटना के बारे में जानकारी फैलाने के लिए पत्रकारिता की भूमिका है। समाचार पत्र, रेडियो, टेलीविजन और हाल ही में नए मीडिया-इंटरनेट ने जिस तरह से समाचार को प्रसारित करने के लिए उपयोग किया है, उसने पूरी तरह से क्रांति ला दी है। इस अभ्यास में पत्रकारों की महत्वपूर्ण भूमिका है और यही जर्निलस्म (पत्रकारिता) है।

पत्रकारिता में स्नातक की डिग्री के लिए आमतौर पर न्यूनतम पात्रता 10 + 2 प्रमाण पत्र में निर्धारित की जाती है और स्नातकोत्तर डिग्री पाठ्यक्रमों के लिए पत्रकारिता में स्नातक की डिग्री आवश्यक है। कुछ संस्थान और निजी शैक्षिक पत्रकारिता में एक साल का सर्टिफिकेट कोर्स भी कराते हैं, जिसके लिए पात्रता 10 + 2 है। पत्रकारिता के विशेष क्षेत्रों जैसे खेल, टेलीविजन, फोटो, प्रेस कानून आदि पाठ्यक्रम शामिल किये गए हैं।

पत्रकारिता को दो श्रेणियों – प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक में विभाजित किया गया है। प्रिंट मीडिया में पत्रकारिता की नौकरियां अखबारों, पत्रिकाओं, पत्रिकाओं, पचड़ों और समाचार एजेंसियों के इर्द-गिर्द घूमती हैं।

दूसरी ओर इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से पत्रकारिता में टेलीविजन, रेडियो और नए मीडिया-इंटरनेट शामिल हैं।

 

बैचलर इन लाइब्रेरी साइंस | Graduation in Library Science

BLibSc (बैचलर ऑफ लाइब्रेरी साइंस) कोर्स भी बाहरवीं के बाद किया जा सकता है। BLibSc (बैचलर ऑफ लाइब्रेरी साइंस) कोर्स एक स्नातकोत्तर शैक्षणिक डिग्री (ग्रेजुएशन कोर्स / Graduation Course) पाठ्यक्रम है, जो छात्र छात्राओं को पुस्तकालय विज्ञान, इसके मूल सिद्धांतों, कानूनों के साथ-साथ सामाजिक प्रभाव के दर्शन की समझ देने के लिए बनाया गया है। लाइब्रेरी साइंस मूल रूप से अध्ययन का एक ऐसा क्षेत्र है, जो एक पुस्तकालय में पुस्तकों और अन्य सामग्री का प्रबंधन करना सिखाता है। पुस्तकालय विज्ञान को अक्सर पुस्तकालय और सूचना विज्ञान (LibISc) के रूप में भी जाना जाता है।

BLibSc मूल रूप से एक साल की अवधि का कोर्स होता है, जो छात्रों द्वारा पुस्तकालय विज्ञान के क्षेत्र में अपना करियर बनाने के लिए किया जाता है। उच्च शिक्षा संस्थान जिसमें उम्मीदवार आवेदन कर रहे हैं के मापदंडों के आधार पर दोनों मेरिट के साथ-साथ प्रवेश परीक्षा के आधार पर बीएलआईबीएससी में प्रवेश प्रदान किया जाता है।

 

एमबीए (MBA) | MBA Courses After 12th

मास्टर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन या एमबीए भारत और विदेशों में सबसे लोकप्रिय स्नातकोत्तर (ग्रेजुएशन कोर्स / Graduation Course) कार्यक्रमों में से एक है। दो साल का कार्यक्रम कॉर्पोरेट जगत में नौकरियों के ढेर सारे अवसरों का प्रवेश द्वार है अर्थात इसमें रोज़गार की बहुत सी समभावनाएँ हैं। एमबीए इतना लोकप्रिय कोर्स है क्यूंकि विज्ञान, वाणिज्य और मानविकी सहित किसी भी पृष्ठभूमि के छात्र इसे कर सकते हैं।

एक नियमित एमबीए या पोस्ट-ग्रेजुएशन डिप्लोमा है, एमबीए आमतौर पर दो साल का कोर्स होता है जिसे चार या छह सेमेस्टर में विभाजित किया जाता है। हालांकि, कुछ निजी संस्थान हैं, जो एक साल के पीजीडीएम कार्यक्रमों की भी पेशकश करते हैं।

रेगुलर, ऑनलाइन और डिस्टेंस-एजुकेशन जैसे विभिन्न तरीकों से भी एमबीए कर सकते हैं। इच्छुक उम्मीदवार अपने व्यावसायिक अनुभव जैसे कार्यकारी एमबीए के आधार पर अनुकूलित कार्यक्रम भी पा सकते हैं।

 

गवर्नमेंट जॉब UPSC | UPSC After 12th | UPSC in Hindi

बारहवीं के बाद सरकारी नौकरी के लिए भी परीक्षा दी जा सकती है। UPSC का मतलब यूनियन पब्लिक सर्विस कमिशन है। हर साल, यूपीएससी अखिल भारतीय सेवाओं और केंद्रीय सेवाओं के ग्रुप ए और ग्रुप बी के लिए विभिन्न परीक्षाओं का आयोजन करता है और विद्यार्थी तयारी करके एग्जाम दे सकते हैं।

UPSC भारत की प्रमुख केंद्रीय भर्ती एजेंसी है, जो भारत सरकार के पर्सनल और प्रशिक्षण विभाग के अधीन है। व्यक्तिगत साक्षात्कार के बाद साक्षात्कार या लिखित परीक्षा / ट्रेड टेस्ट के आधार पर उम्मीदवारों का चयन होता है।

 

बीबीए (BBA) | BBA Course | BBA Course After 12th

बैचलर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन या बीबीए बारहवीं कक्षा के बाद सबसे लोकप्रिय स्नातक डिग्री (ग्रेजुएशन कोर्स / Graduation Course) कार्यक्रमों में से एक है। बीबीए पाठ्यक्रम विपणन, शिक्षा, वित्त, बिक्री और सरकार जैसे क्षेत्रों के ढेर सारे रोजगार के अवसरों का प्रवेश द्वार है। बीबीए कार्यक्रम / डिग्री व्यवसाय प्रबंधन में 3 वर्षीय व्यावसायिक स्नातक पाठ्यक्रम सभी तीन धाराओं: विज्ञान, कला और वाणिज्य से छात्रों के लिए खुला है, जिनमें दाखिला लिया जा सकता है।

बीबीए पाठ्यक्रम प्रबंधकीय भूमिकाओं और उद्यमशीलता के लिए तैयार करने के लिए प्रबंधन और नेतृत्व कौशल में ज्ञान और प्रशिक्षण प्रदान करता है। पाठ्यक्रम के कार्यकाल के दौरान, उम्मीदवार क्लास रूम व्याख्यान और इंटर्नशिप जैसी व्यावहारिक परियोजनाओं के माध्यम से व्यवसाय प्रशासन और प्रबंधन के विभिन्न पहलुओं को सीखते हैं एवं अध्य्न्न कर सकते हैं। बीबीए फुल टाइम एवं करेस्पोंडेंस में कोर्स पूरा कर सकते हैं। बीबीए पाठ्यक्रम में वित्त, खरीद और बिक्री,सूचना प्रौद्योगिकी जैसे विषयों का अध्यन्न किया जा सकता है।

 

फॉरेन लैंग्वेज डिप्लोमा | Foreign Language Diploma

बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा भारतीय कंपनियों को वैश्विक खिलाड़ी के रूप में उभरने और इंटरनेशनल बाजार के साथ काम करने के लिए विदेशी लैंग्वेज का आना बहुत जरूरी है। पेशेवरों की कोई कमी नहीं है, जो भाषा की बाधाओं को दूर कर सकते हैं और उचित व्यापार लेनदेन के लिए सहज संचार की सुविधा प्रदान कर सकते हैं, व्ही लोग इंटेरनेशनल लेवल पर काम का सकते हैं। इसलिए फॉरेन लैंग्वेज कोर्स भी किये जा सकते हैं, जिसकी इंटरनेशनल लेवल पर बहुत मांग है।

संस्कृतियों की अच्छी समझ वाले विदेशी भाषा विशेषज्ञ कॉर्पोरेट जगत में बहुत मांग में हैं। करियर के रूप में विदेशी भाषाओं का दायरा बहुत ही शानदार है और यह पता लगाने के इच्छुक उम्मीदवार विभिन्न बहुराष्ट्रीय कंपनियों और बहुपक्षीय संगठनों में नौकरी के अवसरों की भीड़ है।

बाहरवीं के बाद संस्थानों से ये कोर्स किये जा सकते हैं और नौकरी के अवसर मिलने पर काम प्राप्त किया जा सकता है। विदेशी भाषाएं सीखने से रोजगार की संभावनाएं भी बढ़ जाती हैं।

 

 एलएलबी फाउंडेशन | LLB Foundation in Hindi

Legum Baccalaureus या LLB एक तीन वर्षीय बैचलर ऑफ लॉ डिग्री (ग्रेजुएशन कोर्स / Graduation Course) है, जो भारत में कई प्रसिद्ध कॉलेजों द्वारा उम्मीदवारों को प्रदान की जाती है। हालांकि, उम्मीदवार इस कानून पाठ्यक्रम को केवल तभी आगे बढ़ा सकते हैं, जब उनके पास स्नातक की डिग्री हो। भारत के सभी लॉ कॉलेजों में प्रस्तावित तीन वर्षीय एलएलबी पाठ्यक्रम को बार काउंसिल ऑफ इंडिया (बीसीआई) द्वारा विनियमित और बारीकी से देखरेख किया जाता है और पाठ्क्रम उपलब्ध कराए जाते हैं।

तीन वर्षीय लॉ कोर्स को इस तरह से संरचित किया गया है कि पाठ्यक्रम को छह सेमेस्टर में विभाजित किया गया है। उम्मीदवारों को डिग्री तभी प्रदान की जाती है जब वे इस तीन वर्षीय एलएलबी पाठ्यक्रम के सभी सेमेस्टर को पूरा करते हैं। भारत में सबसे लोकप्रिय लॉ कॉलेजों में एलएलबी की डिग्री के एक भाग के रूप में, उम्मीदवारों को नियमित सिद्धांत कक्षाओं, मूट कोर्ट, इंटर्नशिप के साथ-साथ ट्यूटोरियल कार्य में भाग लेने की आवश्यकता होती है, इसलिए उम्मीदवारों को इसका ध्यान रखना अनिवार्य है।

उम्मीदवारों को स्नातक होने की आवश्यकता है यानी उन्हें एलएलबी पाठ्यक्रम को आगे बढ़ाने के लिए किसी भी विषय / अनुशासन में तीन साल या चार साल की स्नातक की डिग्री उत्तीर्ण करनी आवश्यक है।

यह सारे ऐसे कोर्स हैं, जो आर्ट्स स्ट्रीम से संबंधित है, विद्यार्थी इन सभी कोर्सेज (ग्रेजुएशन कोर्स / Graduation Course) में से अपनी रुचि अनुसार किसी भी कोर का चयन करके  शिक्षण हासिल कर सकते हैं और भविष्य में अच्छे रोजगार प्राप्त कर सकते हैं। 12वीं के बाद यदि विद्यार्थी मेडिकल नॉन मेडिकल  जैसे  मुश्किल कोर्स नहीं करना चाहते, तो वह लोग अपनी रुचि अनुसार इन कोर्सेज में दाखिला ले सकते हैं।

 

TOP ExamGraduation CourseSarkari YojanaIndia Top ExamExcel Tutorial
Spread the love